समर्थक

28 October, 2012

"ग़ज़लकार बल्ली सिंह चीमा के साथ एक दिन"

बल्ली सिंह चीमा मेरे लिए कोई नया नाम नहीं है। आज से 24-25 साल पहले इनसे मेरी मुलाकात हुई थी। उन दिनों बाबा नागार्जुन खटीमा आये हुए थे। बाबा के सम्मान में एक कविगोष्ठी आयोजित की हुई थी। उसमें बल्ली सिंह चीमा के साथ-साथ बहुत से लोग बाबा से मिलने के लिए आये थे। देखिए उस समय का एक चित्र।
आज सुबह-सुबह मेरे मित्र डॉ.सिद्धेश्वर सिंह का फोन आया कि बल्ली सिंह चीमा आये हुए हैं। आप भी आ जाइए। उनके साथ कुछ देर बैठेंगे, गप-शप करेंगे।
मैं जब डॉ. सिद्धेशवर सिंह के घर गया तो बल्ली सिंह चीमा नाश्ता कर रहे थे। मैं भी उनके साथ चाय में शामिल हो गया।
थोड़ी ही देर में खटीमा के दो कवि राजकिशोर सक्सेना और रावेन्द्र कुमार रवि भी आ गये। 
अब रचनाधर्मियों की गिनती 5 हो गई तो काव्य रस तो बरसना ही था।
सबसे पहले मैंने अपनी दो रचनाओं का पाठ किया।
इसके बाद राजकिशोर सक्सेना ने अपनी कुछ कविताएँ सुनाई।
इस अवसर पर रावेन्द्र कुमार रवि ने भी अपने दो नवगीतों का पाठ किया।
तब तक मेजबान डॉ.सिद्धेश्वर सिंह की पुत्री ने उन्हें दो प्रिंट निकाल कर दे दिये। जिनमें उनकी रचनाएँ थी। उन्होंने बहुत प्रभावशाली अन्दाज़ में इन रचनाओं का पाठ किया।
इसके बाद ग़ज़ल की दुनिया के सशक्त हस्ताक्षर 
कवि-शायर बल्ली सिंह चीमा ने अपनी कुछ पुरानी और कुछ ताज़ा ग़ज़लों के बेहतरीन अशआर पेश किये।
घर से बार-बार फोन आ रहा था कि क्लीनिक में रोगी इन्तजार कर रहे हैं और मैं काव्य रस के सागर में गोते लगा रहा था। मगर घर जाना तो जरूरी था इसलिए चीमा जी से बिदा ली और शाम को अपने घर आने का निमन्त्रण उन्हे दे दिया।
ठीक 5 बजे चीमा जी मेरे निवास पर पहुँचे। औपचारिकता निभाने के बाद मैंने उन्हें अपनी प्रकाशित पुस्तकों सुख का सूरज, नन्हे सुमन, धरा के रंग और हँसता गाता बचपन का सैट सप्रेम भेंट किया।
इस प्रकार मेरा आज का दिन चीमा जी के नाम रहा।

7 comments:

  1. आभार आपका। बहुत बढ़िया। कल का पूरा दिन कवितामय रहा.....सचमुच

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया ये यादगार दिन आपने हमारे साथ सांझा किया .

    ReplyDelete
  3. शुभकामनाएं आदरणीय चीमा जी -
    गुरुवर प्रणाम ||

    ReplyDelete
  4. आभार डा० साहब अत्यंत भाव पूर्ण सस्मरण साझित करने के लिए......

    ReplyDelete
  5. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin